निराश्रित गौ संरक्षण विशेष अभियान की समीक्षा हेतु नोडल अधिकारी ने की बैठक

0
12
Advertisement

बहराइच । शासन के निर्देष के क्रम में 01 नवम्बर से 31 दिसम्बर 2023 तक संचालित किये जा रहे 60 दिवसीय निराश्रित गौ संरक्षण विशेष अभियान के क्रियान्वयन का जायज़ा लेने के उद्देश्य से नोडल अधिकारी प्रबन्ध निदेशक पी.सी.डी.एफ. आनन्द कुमार सिंह ने 01 दिवसीय जनपद भ्रमण के दौरान विकास भवन सभागार में जिले के अधिकारियों के साथ आयोजित बैठक में विशेष अभियान की गतिविधियों के बारे में जानकारी प्राप्त करते हुए निर्देश दिया कि अभियान के दौरान कोई भी निराश्रित गौवंश गौ आश्रय स्थल के बाहर न रहने पायें। सिंह ने कहा कि अभियान के दौरान राष्ट्रीय व राज्यीय तथा अन्य प्रमुख मार्गों पर स्वच्छन्द विचरण करने वाले गौवंशों को गौआश्रय स्थलों में संरक्षित किया जाय।नोडल अधिकारी ने निर्देश दिया कि गौआश्रय स्थलों में शासन की मंशानुरूप चारे, पानी, उपचार, छाया इत्यादि के माकूल बन्दोबस्त किये जाये तथा शरद ऋतु को देखते हुए संरक्षित गौवंशों के बचाव के आश्रय स्थलों में बाड़ों में पर्दे लगाये जाये तथा पशुओं के टाट कोट भी उपलब्ध कराये जाये। नोडल अधिकारी ने निर्देश दिया कि भरण पोषण धनराशि के भुगतान की कार्यवाही को ससमय पूर्ण की जाय। सिंह ने यह भी सुझाव दिया गौआश्रय स्थलों में नर व मादा पशुओं को अलग-अलग बाड़ों में रखा जाय। नोडल अधिकारी ने यह भी सुझाव दिया कि जनप्रतिनिधियों से भी समय-समय पर गौशालाओं का निरीक्षण कराया जाय। इस दौरान जनप्रतिनिधियों की ओर से प्राप्त होने वाले सुझावों पर अमल करते हुए गौवंशों के संरक्षण में उनका भी सहयोग प्राप्त करें। नोडल अधिकारी ने यह भी निर्देश दिया कि गौशालाओं के आस-पास स्थित रिक्त भूमि का चिन्हाकन कर हरे चारे के प्रबन्ध हेतु लैण्ड बैक बनाया जाय।
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी रम्या आर., उप जिलाधिकारी कैसरगंज पंकज दीक्षित, पयागपुर के दिनेश कुमार, नानपारा के अजित परेश, महसी के राकेश कुमार मौर्या, मोतीपुर के संजय कुमार, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ. राजेन्द्र प्रसाद, ईओ बहराइच प्रमिता सिंह व अन्य सम्बन्धित अधिकारी, खण्ड विकास अधिकारी, डिप्टी सीवीओ व पशु चिकित्साधिकारी मौजूद रहे।  
उल्लेखनीय है कि बैठक से पूर्व नोडल अधिकारी सिंह ने इससे पूर्व विकास खण्ड कैसरगंज में संचालित अस्थायी गौआश्रय स्थल परसेण्डी का निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायज़ा लेते हुए संतोष व्यक्त किया। निरीक्षण के दौरान बताया गया कि गौशाला में कुल 479 गौवंश संरक्षित हैं जिसमें 299 नर व 180 मादा हैं। नोडल अधिकारी सिंह ने गौवंशों का गुड़, फल व चारा खिलाकर गौसेवा भी की।

Advertisement
Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here