चिनहट पुलिस टीम द्वारा नकली देसी शराब बनाने वाले गैंग का पर्दाफाश,

0
686
Advertisement

चिनहट थाना पुलिस टीम द्वारा नकली शराब पावर हाउस, विंडीज, फाइटर, दीवाना कंपनी का फर्जी लोगों लगाकर नकली शराब को असली के रूप में प्रदर्शित कर बेचने वाले गिरोह के दो सदस्य गिरफ्तार जिसने 1255 लीटर अवैध मिश्रित शराब व शराब बनाने के उपकरण जिसकी कीमत लगभग 25 लाख रुपए सहित गिरफ्तार।

Advertisement

महानगरीय क्षेत्र लखनऊ में आसपास के जनपदों में अवैध रूप से पावर हाउस, विंडो फाइटर, दीवाना कंपनी का फर्जी लोगों व बारकोड लगाकर नकली मिश्रित शराब बनाकर उसे जनमानस को धोखा देते हुए असली के रूप में प्रदर्शित कर बेचने वाले गैंग का पर्दाफाश। 
पुलिस उपायुक्त पूर्वी सुश्री चारू निगम के निर्देशन तथा उप पुलिस आयुक्त पूर्वी श्री अमित कुमार के निकट पर्यवेक्षण तथा सहायक पुलिस आयुक्त विभूति खंड श्री स्वतंत्र कुमार सिंह के कुशल नेतृत्व में प्रभारी निरीक्षक थाना चिनहट श्री धनंजय पांडे की टीम द्वारा दिनांक 5 अक्टूबर 2020 को थाना चिनहट क्षेत्र अंतर्गत 1328 क्रॉसिंग के पास से चेकिंग के दौरान मुखबिर की सूचना के आधार पर एक अदद स्कॉर्पियो तथा स्कोडा वाहन से अभियुक्त गण नंबर 1 विकास दुबे उर्फ अजय कुमार दुबे पुत्र राम शंकर दुबे निवासी गायत्री नगर नौबस्ता खुर्द थाना मड़ियांव लखनऊ स्थाई पता कल्याणपुर मौहरा थाना अंतू जनपद प्रतापगढ़ उम्र 35 वर्ष 2व्यक्ति आशुतोष पांडे उर्फ सोनू पुत्र रमाशंकर पांडे निवासी 2/142 सेक्टर सी अलीगंज लखनऊ, स्थाई पता ग्राम व पोस्ट परशुरामपुर थाना कोहडौरा जनपद प्रतापगढ़ उम्र 31 वर्ष को गिरफ्तार किया गया।इनकेे कब्जे आपमिश्रित शराब पावर हाउस, विंडीज, फाइटर, दीवाना कंपनी का लोगो लगााकर नकली शराब को असली का रूप देकर बेचने वालेेे अवैध अपमिश्रित शराब बरामद कियाा गय।

एवं अभियुक्त गण की निशानदेही पर स्थान नहरिया रोड नई बस्ती जानकीपुरम विस्तार लखनऊ से भी मिश्रित देशी शराब की बरामदगी की गई, व नकली शराब बनाने की सामग्री व उपकरण बरामद किया गया। विस्तृत पूछताछ करने पर जानकारी हुई कि पकड़े गए उपरोक्त विकास दुबे व आशुतोष पांडे अपने साथी आदित्य कुमार, विपिन बिहारी शुक्ला परमेंद्र सरदार ,राहुल तिवारी के साथ नकली अपमिश्रित शराब बनाने के लिए ड्रमो में अल्कोहल खरीद कर उस अल्कोहल की क्षमता बढ़ाने के लिए उसमें यूरिया व तमाम रासायनिक पदार्थों का मिश्रण मिलाकर उसे तैयार कर उसे हुबहू असली जैसा बनाने के लिए तमाम फ्लेवर का रंग मिलाकर तैयार करते हैं।

अपमिश्रित शराब को अल्कोहल मीटर से तिक्ष्णता मापकर उसे खाली बोतल में भरकर उसके ऊपर फर्जी लोगों व ढक्कन लगाकर मशीन से शीलकर भारी मात्रा में तैयार करते हैं, और अपने लोगों की मदद से उस कंपनी के ठेकेदारों व लाइसेंसी दुकानदारों को मिलाकर जनमानस को धोखा देने के नियत से तैयार  अपमिश्रित नकली शराब को असली के रूप में प्रदर्शित कर बेचकर जो लाभांश प्राप्त करते हैं। यह गैंग जगह बदल बदल कर फर्जी कूटरचित पहचान पत्र प्रस्तुत कर अपनी पहचान छिपाते हुए अपने इस कार्य को अंजाम देते हैं पूर्व में इस गैंग के दो सदस्य सौरभ मिश्रा व अनुज जैसवाल को पुलिस टीम चिनहट द्वारा गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है इसके बाद भी इस अभियुक्त गण द्वारा यह दुस्साहस एक कार्य किया जा रहा है बरामद अवैध शराब की कुल अनुमानित कीमत लगभग 2500000 रुपए है। 

अपराध करने का तरीकायह गैंग नकली अपमिश्रित शराब बनाने के लिए डर््मो में अल्कोहल व तिक्ष्णता बढ़ाने के लिए उसमें यूरिया व तमाम रसायनिक पदार्थों का मिश्रण मिलाकर उसे तैयार कर उसे हूबहू असली जैसा बनाने के लिए तमाम फ्लेवर रंग मिलाकर तैयार अब मिश्रित शराब व अल्कोहल मीटर के तिक्षषष्णता मापकर उसे खाली बोतलों में भरकर उसके ऊपर फर्जी लोगों का ढक्कन लगाकर मशीन से सील कर भारी मात्रा में तैयार करते हैं, और अपने लोगों की मदद से उस कंपनी के ठेकेदारों व लाइसेंसी दुकानदारों को मिलकर जनमानस को धोखा देने की नियत से तैयार मिश्रित शराब को असली के रूप में प्रदर्शित कर भेज कर जो लाभांश प्राप्त होता उसे सभी लोग आपस में बांट लेते हैं। यह गैंग जगह बदल बदल कर इस कार्य को अंजाम देते हैं लखनऊ तथा आसपास के जनपदों में सरकारी ठेकेदारों व अपने जानने वाले लोगों के माध्यम से शराब बेच कर अवैध लाभ प्राप्त करते हैं।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here