डीएम की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई जिला स्वास्थ्य समति व पोषण समिति की बैठक

0
19
Advertisement

बहराइच । जिला स्वास्थ्य समिति के शासी निकाय तथा जिला स्तरीय पोषण समिति व कुपोषण मुक्त गांवों की प्रगति की समीक्षा हेतु वृहस्पतिवार को देर शाम कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित बैठक के दौरान जिलाधिकारी मोनिका रानी ने हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर द्वारा संचालित स्वास्थ्य गतिविधियों व कम्युनिटी हेल्थ आफिसर्स की समयबद्ध उपस्थिति की समीक्षा के दौरान प्रभारी मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. राजेश गौतम द्वारा बताया गया कि उपस्थिति की जांच में अनुपस्थित पाये गये सभी 25 सीएचओ का का दिन का मानदेय काटने की कार्यवाही की गई है। डीएम ने निर्देश दिया कि हेल्थ एवं वेलनेस सेन्टर को शासन की मन्शानुरूप संचालित लोगों को चिकित्सकीय सुविधाएं प्रदान की जाये तथा कार्मिकों की उपस्थिति सुनिश्चित कराने के लिए भविष्य में आकस्मिक जांच की जाय।सिकिल सेल इनीमिया जांच कार्य की समीक्षा के दौरान लक्ष्य 10 हज़ार के सापेक्ष मात्र 2334 लोगों की जांच किये जाने पर डीएम ने कड़ी नाराज़गी जताते हुए प्रभारी चिकित्साधिकारी मिहींपुरवा व बीसीपीएम का अग्रिम आदेशों तक वेतन बाधित करने का निर्देश दिया। नियमित टीकाकरण की समीक्षा के दौरान प्रभारी चिकित्साधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिये गये कि किसी भी दशा में प्रगति राज्य औसत से कम न हो। डीएम ने सचेत किया कि यदि आगामी बैठक में प्रगति में सुधार नहीं हुआ तो एमओआईसी के विरूद्ध कठोर कार्यवाही की जायेगी। डीएम ने निर्देंश दिया कि नियमित टीकाकरण में बीते माह जनवरी के मुकाबले माह फरवरी में कम प्रगति वाले एमओआईसी के विरूद्ध कार्यवाही की जाय। मार्च माह की समीक्षा में 84 प्रतिशत से कम टीकाकरण कराने वाले एमओआईसी के विरूद्ध अनिवार्य रूप से कार्यवाही की जायेगी।
डीएम ने प्रभारी सीएमओ को निर्देश दिया कि स्वास्थ्य केन्द्रों पर निष्प्रयोज्य उपकरणों एवं सामग्री का नियमानुसार निस्तारण करा दें ताकि वहां का माहौल साफ-सुथरा रहे। डीएम ने कहा कि स्वास्थ्य केन्द्रों पर सभी प्रकार मूलभूत सुविधाओं के माकूल बन्दोबस्त सुनिश्चित कराये जायें ताकि आने वाले मरीज़ों और उनकों तीमारदारों को किसी प्रकार की असुविधा न हो। जिला पोषण समिति/कन्वर्जेन्स समिति की बैठक के दौरान डीएम ने विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिया कि सभी इण्डीकेटर्स में अगले माह तक सुधार लाना सुनिश्चित करें, अन्यथा की स्थिति में जिम्मेदार अधिकारियों के स्थानान्तरण हेतु शासन को संस्तुति पत्र प्रेषित कर दिया जायेगा। डीएम ने अधिकारियों का आहवान किया कि आकांक्षात्मक जनपद की आवश्यकताओं को देखते हुए पूरी जिम्मेदारी के साथ अपने उत्तरदायित्वों का निर्वहन करें।  
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी रम्या आर, जिला विकास अधिकारी महेन्द्र कुमार पाण्डेय, पीडी डीआरडीए राज कुमार, एसडीएम सदर प्रिंस वर्मा व नानपारा के अश्वनी पाण्डेय, डीसी मनरेगा के.डी. गोस्वामी, जिला कार्यक्रम अधिकारी राज कपूर सहित गोद लिए गये गावों के नोडल अधिकारी, प्रभारी चिकित्साधिकारी, बाल विकास परियोजना अधिकारी व अन्य सम्बन्धित मौजूद रहे।

Advertisement
Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here