निर्वाचन कार्मिकों की डाटा फीडिंग के लिए सम्पन्न हुआ प्रशिक्षण कार्यक्रम

0
8
Advertisement

बहराइच। आगामी लोकसभा सामान्य निर्वाचन 2024 को स्वतन्त्र, निष्पक्ष एवं सुव्यवस्थित ढंग से सम्पन्न कराये जाने के उद्देश्य से कार्मिक व्यवस्था के दृष्टिगत भारत निर्वाचन आयोग के निर्देश अधिकारियों एवं कार्मिकों के डाटा फीडिंग कार्य की समीक्षा हेतु कलेक्ट्रेट सभागार जिलाधिकारी मोनिका रानी की अध्यक्षता में नोडल अधिकारियों को प्रशिक्षण कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। प्रशिक्षण कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए डीएम ने कार्यालयाध्यक्षों को निर्देश दिया कि अधीनस्थ कार्यरत शत-प्रतिशत अधिकारियों एवं कर्मचारियों को डाटा उपलब्ध कराया जाय। डाटा परीक्षण में यदि यह तथ्य संज्ञान में आता है कि किसी अधिकारी द्वारा त्रुटिपूर्ण डाटा भेजा गया है तो इसके लिए सम्बन्धित अधिकारियों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की जायेगी।
डीएम ने प्रभारी अधिकारी कार्मिक को निर्देश दिया कि अब तक डाटा उपलब्ध न कराने वाले नोडल अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी की जाय। डीएम ने कहा कि निर्वाचन जैसे चुनौतीपूर्ण कार्य को सकुशल सम्पन्न कराने में कार्मिकों के महत्व को दृष्टिगत रखते हुए सभी नोडल अधिकारी तत्काल त्रुटि रहित डाटा उपलब्ध करा दें ताकि समय रहते आयोग के साफ्टवेयर पर डाटा की फीडिंग करायी जा सके। डीएम ने कहा कि प्रशिक्षण का मुख्य उद्देश्य यही है कि सभी नोडल अधिकारी व आपरेटर्स को तकनीकी रूप से दक्ष हो जाएं।
डीएम ने कहा कि ज्यादातर अधिकारी व कर्मचारी निर्वाचन जैसे कार्य को पूर्व में सकुशल सम्पन्न करा चुके है इसीलिए अपने अनुभवों का लाभ उठाते हुए आसन्न लोकसभा निर्वाचन के लिए बेहतर से बेहतर तैयारी कर लें ताकि निर्बाध रूप से जिले में चुनाव को सकुशल सम्पन्न कराया जा सके। डीएम ने विभिन्न व्यवस्थाओं के लिए नामित प्रभारी व नोडल अधिकारियों को निर्देश दिया कि आयोग के दिशा निर्देशों का भली प्रकार से अध्ययन कर निर्वाचन से सम्बन्धित अपने दायित्वों को निभायें।
डीएम मोनिका रानी ने कहा कि भारत निर्वाचन आयोग इस बात के दृढ़ संकल्पित है कि सभी वर्गों के शत-प्रतिशत मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग अवश्य करें। डीएम ने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिया कि सुनियोजित मतदाता शिक्षा एवं निर्वाचक सहभागिता (स्वीप) कार्यक्रम अन्तर्गत लोगों को मतदान के जागरूक किया जाय। डीएम ने जिले के सभी मतदेय स्थलों पर बिजली, पानी, छाव, शौचालय इत्यादि मूलभूत सुविधाएं सुनिश्चित की जायें तथा यह भी देख लिया जाय सभी केन्द्रों पर रैम्प बना हो जिससे दिव्यांग व बुज़ुर्ग मतदाताओं को किसी प्रकार की असुविधा न होने पाये। डीएम ने कहा कि मतदान केन्द्र पर आने वाले दिव्यांग व बुज़ुर्ग मतदाता सिर्फ अपने मताधिकार का प्रयोग ही नहीं करते बल्कि सामान्य व युवा मतदाताओं को प्रेरित भी करते हैं।
डीएम ने निर्देश दिया कि सुनियोजित मतदाता शिक्षा एवं निर्वाचक सहभागिता कार्यक्रम के दिव्यांग, थर्ड जेण्डर, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति तथा कमज़ोर वर्ग के मतदाताओं को अपने मताधिकार का प्रयोग करने के लिए प्रेरित किया जाय। डीएम ने कहा कि विधानसभावार कम मतदान प्रतिशत वाले बूथों को चिन्हित कर ऐसे क्षेत्रों में स्वीप गतिविधियों संचालित की जाये तथा अधिकारी क्षेत्र का भ्रमण कर न्यून मतदान के कारणों की जानकारी प्राप्त कर समस्या का समाधान कराएं। प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान विकसित भारत संकल्प यात्रा के सम्बन्ध में प्रधानमंत्रीनरेन्द्र मोदी जी के लाभार्थी सांवाद कार्यक्रम का भी सजीव प्रसारण किया गया।
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी रम्या आर., एडीएम गौरव रंजन श्रीवास्तव, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. एस.के. सिंह, डीडीओ महेन्द्र कुमार पाण्डेय, बीएसए अव्यक्तराम, डीआईओ एनआईसी योगेश यादव, नेटवर्क अभियन्ता रमन गुप्ता व संदीप द्विवेदी सहित अन्य सम्बन्धित नोडल अधिकारी व डाटा फीडिंग आपरेटर्स मौजूद रहे।

Advertisement
Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here