परियोजनाओं में क्षतिग्रस्त सार्वजनिक सम्पत्तियों की मरम्मत कराएं कार्यदायी संस्थाएं: जलशक्ति मंत्री

0
26
Advertisement

बहराइच। मंत्री, जल शक्ति विभाग (सिंचाई एवं जल संसाधन, बाढ़ नियंत्रण, परती भूमि विकास, लघु सिंचाई, नमामि गंगे एवं ग्रामीण जलापूर्ति विभाग) स्वतन्त्र देव सिंह ने शुक्रवार को देर शाम कल्पीपारा स्थित सिंचाई विभाग के गेस्ट हाउस में सिंचाई एवं जल संसाधन, सिंचाई यांत्रिक, बाढ़ नियंत्रण, परती भूमि विकास, लघु सिंचाई, भूगर्भ जल विभाग, नमामि गंगे एवं जल जीवन मिशन व अन्य अधिकारियों के साथ बैठक करते हुए निर्देश दिया कि परियोजनाओं से सम्बन्धित प्रत्येक गतिविधियों में जनप्रतिनिधियों को आमंत्रित किया जाय। मंत्री सिंह ने यह भी निर्देश दिया कि जनप्रतिनिधियों को निर्माण स्थलों का अवलोकन कराते रहें तथा समय-समय पर प्रगति की जानकारी देने के साथ-साथ लाभार्थियों की सूची भी उपलब्ध करा दें। जलशक्ति मंत्री सिंह ने यह भी निर्देश दिया कि लाभार्थियों के चयन से पूर्व जनप्रतिनिधियों से भी आवश्यक सुझाव प्राप्त करें।
जल जीवन मिशन की समीक्षा के दौरान मुख्य अभियन्ता जल निगम सौरभ सुमन द्वारा बताया गया कि मिशन अन्तर्गत फेज़-2 में दो संस्थाएं पी.एन.सी. व जी.ए. इन्फ्रा कार्य कर रही हैं। पी.एन.सी. संस्था के 871 ग्रामों में 599 परियोजनाएं शासन द्वारा स्वीकृत हुई है जिसके सापेक्ष 510 परियोजनाओं में कार्य प्रगति पर है। संस्था को 4,44,237 हाउस कनेक्शन का लक्ष्य निर्धारित है जिसके सापेक्ष 1,98,709 हाउस कनेक्शन का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। इसी प्रकार जी.ए. इन्फ्रा ने 209 ग्रामों में 162 परियोजनाएं स्वीकृत हुई थीं। जिसके सापेक्ष 90 परियोजनाओं में कार्य प्रगति पर है। संस्था को 1,05,208 हाउस कनेक्शन का लक्ष्य निर्धारित है जिसके सापेक्ष 709 हाउस कनेक्शन का कार्य पूर्ण कर लिया गया है।
जलशक्ति मंत्री सिंह ने विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिया कार्य स्थल में यांत्रिक एवं मानव संसाधन को बढ़ा कर प्रगति में सुधार लाया जाय तथा अपेक्षित प्रगति हासिल न करने वाली कार्यदायी संस्था को कारण बताओ नोटिस जारी की जाय। मंत्री सिंह ने निर्देश दिया कि परियोजना अन्तर्गत क्षतिग्रस्त होने वाली सार्वजनिक सम्पत्तियों की समय से मरम्मत कराई जाए। क्षतिग्रस्त सार्वजनिक सम्पत्ति कर मरम्मत न कराने वाली एजेन्सी के विरूद्ध कार्यवाही की जाय। योजना के प्रचार-प्रसार हेतु नामित एजेन्सी एक्शन फार रूरल डेवलपमेन्ट को निर्देश दिया गया कि खण्ड विकास अधिकारियों से समन्वय कर अपनी गतिविधियों का विवरण उन्हें उपलब्ध कराएं तथा प्रचार-प्रसार के उद्देश्य से आयोजित होने वाले चौपाल व अन्य कार्यक्रमों में जनप्रतिनिधियों को भी आमंत्रित किया जाय। बैठक के दौरान अन्य बिन्दुओं की भी समीक्षा कर सम्बन्धित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये।
बैठक में मौजूद सांसद बहराइच अक्षयवर लाल गोंड, विधायक महसी सुरेश्वर सिंह, पयागपुर के सुभाष त्रिपाठी व सदर की अनुपमा जायसवाल द्वारा भी परियोजनाओं के क्रियान्वयन के सम्बन्ध में महत्वपूर्ण सुझाव दिये गये। इस अवसर पर जिला सिंचाई बन्धु समिति के उपाध्यक्ष राघवेन्द्र प्रताप सिंह, पाटी पदाधिकारी रण विजय सिंह, डीएफओ बहराइच संजय शर्मा सहित सम्बन्धित विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।

Advertisement
Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here