शिवसैनिकों ने भगत सिंह की 92वें बलिदान दिवस पर किया नमन

0
27
Advertisement

बाराबंकी। शिवसेना उद्धव बाला साहब ठाकरे के शिवसैनिकों ने आज सोमैया नगर शिवसेना जिला मुख्यालय पर अमर शहीद सरदार भगत सिंह के 92वें बलिदान दिवस पर नमन करते हुए उनके चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर उनके व्यक्तित्व पर चर्चा करते हुए भगत सिंह के विचारों पर चलने का संकल्प लिया।
               इस अवसर पर पार्टी के जिला प्रमुख मनोज विद्रोही ने भगत सिंह के प्रसंगों पर चर्चा करते हुए कहाकि महान क्रांतिकारी भगत सिंह काफी खुशमिजाज स्वभाव के थे। कानपुर में वह काफी दिनों तक बटुकेश्वर दत्त के साथ रहे और वहां उनकी खुशमिजाजी की कई कहानियां कही जाती हैं। लेकिन उनकी खुशमिजाजी और उनकी हंसी किस तरह से अंग्रेजों के सीने में गरम तलवार बनकर पैवस्त हुई, उसका भी अनोखा वाकया है। मामला लाहौर षडयंत्र वाले मुकदमे का है।भगत सिंह को गिरफ्तार करके अदालत ले जाया गया और पेशियां शुरू हुईं। पेशियों के दौरान भगत सिंह की मस्ती देखते बनती थी। एक दिन जिरह के बीच अंग्रेजों का वकील कुछ ऐसा बोला कि भगत सिंह बेसाख्ता हंस पड़े। भगत सिंह के हंसने पर सरकारी वकील भड़क उठा। उसने अदालत से शिकायत की और कहा कि बहस के दौरान इस तरह से हंसना अदालत की तौहीन है। इस पर भगत सिंह बोले, ‘मैं तो हंसने के लिए ही पैदा हुआ हूं। मैं तमाम जिंदगी हंसता रहा हूं, हंसता रहूंगा। आज अदालत में हंस रहा हूं और आगे जब मुझे आप फांसी देंगे, तो उस तख्ते पर भी मैं आपको हंसता हुआ ही मिलूंगा। वकील साहब इस वक्त तो मेरे हंसने की शिकायत अदालत से कर रहे हैं, मगर जब मैं फांसी के तख्ते पर हंसूंगा, तब किस अदालत से शिकायत करेंगे? भगत सिंह की एक हंसी पर उस वक्त तो क्या, आज भी लोग मर मिटते हैं। 23 मार्च 1931 को अंग्रेजों ने भगत सिंह और राजगुरु को फांसी देने के लिए सारे नियम तोड़ डाले। लोग भगत सिंह की निश्छल मुस्कान ना देखने पाएं, इसके लिए उन्होंने दोनों को रात में फांसी दी, जबकि जेल मैनुअल के मुताबिक फांसी सुबह ही दी जा सकती थी। किसी को उन्हें देखने नहीं दिया गया। अंग्रेज अंत तक नहीं चाहते थे कि लोगों को पता चले कि फांसी के तख्ते पर हमारा क्रांतिकारी हंसी की एक नई इबारत लिख रहा था।
            इस अवसर पर पार्टी जिला वरिष्ठ उप प्रमुख कमलेश सिंह चौहान, जिला उप प्रमुख दीपू बाल्मीकि उर्फ पंडित जी ,जिला उप प्रमुख अजय गुप्ता,जिला महासचिव पवन रावत, व्यापार सेना जिला प्रमुख सुशील जायसवाल उर्फ बबलू,युवासेना अयोध्या मंडल उप प्रमुख सर्वेन्द्र प्रताप सिंह दीपक,कुर्सी विधानसभा प्रभारी कमलेश सिंह चौहान,जिला सचिव आशीष यादव,व्यापार सेना जिला सचिव राहुल गुप्ता आदि उपस्थित थे।

Advertisement
Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here