जनपद में धान खरीद कार्य के सफल संचालन के डीएम की अध्यक्षता में सम्पन्न हुआ प्रशिक्षण

0
27
Advertisement

बहराइच। खरीफ विपणन वर्ष 2023-24 में मूल्य समर्थन योजना अन्तर्गत 01 नवम्बर 2023 से प्रारम्भ होने वाले धान खरीद कार्य को सफलतापूर्वक क्रियान्वित कराये जाने के उद्देश्य से कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित बैठक में वर्चुअली प्रतिभाग कर रहे उप जिलाधिकारी व तहसीलदारों को जिलाधिकारी मोनिका रानी ने निर्देश दिया कि खरीद प्रारम्भ होने से पूर्व पंजीकृत कृषकों के सत्यापन कार्य को हर हाल पूर्ण कर लिया जाय। डीएम ने एसडीएम व तहसीलदारों को यह भी निर्देश दिया कि फसल अवशेषों को खेतों में जलाने की घटनाओं पर प्रभावी अंकुश के लिए कृषि विभाग के सहयोग से गांव-गांव में मुनादी करा दी जाय तथा किसानों को पराली के बेहतर प्रबन्धन हेतु प्रेरित किया जाय।
किसानों को बताया जाय कि पराली से कम्पोस्ट तैयार करना एक बेहतर विकल्प है, इससे पर्यावरण संरणण के साथ-साथ भूमि की उर्वरा शक्ति को भी बढ़ाया जा सकता है। डीएम ने कहा कि किसानों को इस बात के लिए जागरूक करें के वह अपने अतिरिक्त फसल अवशेष को गौआश्रय स्थल को दान कर पुण्य के भागी बने। डीएम ने सभी क्रय ऐजेन्सियों को निर्देश दिया कि धान खरीद हेतु शासन द्वारा भुगतान के सम्बन्ध में जारी 48 घण्टे की गाइडलाइन का कड़ाई के साथ अनुपालन करेंगे तथा धान खरीद हेतु कृषकों एवं उनके पशुओं के लिए छाव, पानी व बैठने इत्यादि के माकूल बन्दोबस्त के साथ शासन द्वारा निर्धारित मानक के अनुसार बैनर, रेट लिस्ट, प्रभाणित बांट व तराजू, बोरों सहित अन्य उपकरणों की व्यवस्था रखी जायेगी।
डीएम मोनिका रानी ने दो टूक शब्दों में कहा कि किसी भी क्रय केन्द्र पर किसानों का शोषण जैसी शिकायत के संज्ञान में आने पर क्रय केन्द्र प्रभारी के साथ-साथ जनपद के प्रभारी अधिकारी भी कार्रवाई की ज़द में आयेंगे। डीएम ने कहा कि क्रय अवधि के दौरान कोई भी केन्द्र बन्द नहीं होना चाहिए और न ही किसी केन्द्र पर खरीद प्रभावित होने पाये। सभी प्रभारी अधिकारी प्रभावी कार्ययोजना के साथ धान खरीद करेंगे। डीएम ने सभी क्रय एजेन्सियों के जिला प्रभारियों को निर्देश दिया कि खरीद अवधि के दौरान नियमित रूप से क्रय केन्द्रों का निरीक्षण कर बोरों, धनराशि की उपलब्धता, खरीदे गये धान की डिलेवरी, राईस मिलों की सम्बद्वत्ता इत्यादि की कार्रवाई एक सप्ताह में पूर्ण कराना सुनिश्चित किया जाय।
बैठक के दौरान विपणन निरीक्षक संतोष श्रीवास्तव ने बताया कि विगत वर्षो में जिले में धान की अच्छी खरीद की गयी थी जिसके लिए जनपद भ्रमण के दौरान मा. मुख्यमंत्री जी व शासन स्तर से सराहना की गयी थी। उन्होंने बताया कि जनपद में विभिन्न क्रय एजेन्सियों के 133 क्रय केन्द्र खोला जाना है जिसके सापेक्ष अब तक खाद्य विभाग के 20, पीसीएफ के 32, पीसीयू के 25, यूपीएसएस के 10 व भारतीय खाद निगम के 02 इस प्रकार 89 क्रय केन्द्र अनुमोदन के उपरान्त खोले गये। उन्होनें बताया कि विगत वर्ष 28 हजार किसानों से 17.48 लाख कु. धान खरीद किया गया था। इस वर्ष शासन द्वारा जनपद के लिए 17.55 लाख कु. धान खरीद का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। शासन द्वारा 2183 रूपये प्रति कु. समर्थन मूल्य निर्धारित किया गया है। उन्होनें बताया कि 01 नवम्बर 2023 से 28 फरवरी 2024 तक धान खरीद की जायेगी। अब तक 10 हजार किसानों द्वारा पंजीकरण किया गया है। इस अवसर पर मुख्य राजस्व अधिकारी अवधेश कुमार मिश्र, उप निदेशक कृषि टी.पी. शाही, जिला कृषि अधिकारी सतीश कुमार पाण्डेय, एआर कोआपरेटिव संजीव तिवारी, क्रय एजेन्सियों के जनपद प्रभारी, केन्द्र प्रभारी तथा अन्य सम्बन्धित मौजूद रहे।

Advertisement
Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here